Latest Notification

Diwali 2023 :धनतेरस से लेकर लाभ पंचमी तक सभी त्यौहारों की सही डेट और चौघड़ियों के साथ शुभ समय यहां से देखें

Diwali 2023 Kis Din Hai

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Follow On Instagram Follow Now

Diwali 2023 : धनतेरस से लेकर लाभ पंचमी तक सभी त्यौहारों की सही डेट और चौघड़ियों के साथ शुभ समय यहां से देखें- सबसे पहले Rajasthan Shiksha Vibhag Samachar  टीम और Govt Exam Tak टीम की ओर से आपको और आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं!! दीपावली का त्यौहार भारतवर्ष में बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है । दीपावली हिंदू धर्म का सबसे बड़ा त्योहार है। यह पांच दिनों तक चलता है और धन, समृद्धि और खुशी का प्रतीक है। दीपावली का पर्व कार्तिक मास की अमावस्या तिथि को मनाया जाता है। इस साल दीपावली 12 नवंबर, 2023 को मनाई जाएगी। दीपावली से पहले भी विभिन्न प्रकार के त्यौहार आते है । इस बार यदि आपके मन में संसय आ रहा है कि दीपावली किस दिन है या फिर धनतेरस किस दिन है , तो इन सभी के लिए हमने आज की इस पोस्ट के अंदर सभी संसयों को दूर कर दिया गया है । तथा आप नीचे दिए हुए पोस्ट के माध्यम से जान सकते हैं कि इस बार धनतेरस,छोटी दिवाली,दिवाली, लक्ष्मी पूजा,गोवर्धन पूजा,भैया दूज और लाभ पंचमी का त्यौहार किस दिन है।  और इसके साथ-साथ इन सभी त्योहारों के लिए पूजा करने आदि के बारे में शुभ मुहूर्त आदि की जानकारी भी इस पोस्ट के अंदर हम उपलब्ध करवा रहे हैं ।

Diwali 2023 : धनतेरस से लेकर लाभ पंचमी तक सभी त्यौहारों की सही डेट और चौघड़ियों के साथ शुभ समय यहां से देखें
Diwali 2023 : धनतेरस से लेकर लाभ पंचमी तक सभी त्यौहारों की सही डेट और चौघड़ियों के साथ शुभ समय यहां से देखें

दिवाली के दिन माता लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा करने से धन, वैभव और शुभता में वृद्धि होती है । बहुत से लोग यह जानना चाहते हैं कि दीपावली की पूजा किस टाइम पर करनी है तो हमने नीचे दिवाली पर लक्ष्मी पूजा का शुभ मुहूर्त और दीपावली से रिलेटेड मुख्य जानकारी उपलब्ध करवाई है , यदि आपको यह पोस्ट अच्छा लगे तो अपने सभी दोस्तों के साथ शेयर अवश्य करें ।

दिवाली पूजा सामग्री लिस्ट

  • मां लक्ष्मी, गणेश जी, माता सरस्वती और कुबेर देव की मूर्ति
  • अक्षत्, लाल फूल, कमल के और गुलाब के फूल, माला, सिंदूर, कुमकुम, रोली, चंदन
  • पान का पत्ता और सुपारी, केसर, फल, कमलगट्टा, पीली कौड़ियां, धान का लावा, बताशा, मिठाई, खीर, मोदक, लड्डू, पंच मेवा
  • शहद, इत्र, गंगाजल, दूध, दही, तेल, शुद्ध घी, कलावा, पंच पल्लव, सप्तधान्य
  • कलश, पीतल का दीपक, मिट्टी का दिया, रुई की बत्ती, नारियल, लक्ष्मी और गणेश के सोने या चांदी के सिक्के, धनिया
  • आसन के लिए लाल या पीले रंग का कपड़ा, लकड़ी की चौकी, आम के पत्ते लौंग, इलायची, दूर्वा आदि।

ऐसे करें पूजा

सबसे पहले साफ कपड़ा बिछाकर लक्ष्मी गणेश जी की मूर्ती स्थापित करें। इसके बाद तीन बार जल पीकर आचमन करें।  तत्पश्चात हाथ में जल, पुष्प और कुछ पैसेलेकर संकल्प बोलें। आप संकल्प हिंदी में भी बोल सकते हैं।

धनतेरस

(विक्रम संवत् 2080 कार्तिक वदी 12 शुक्रवार दिनांक 10-11-2023 )

दीपावली के ठीक पहले धनतेरस का त्यौहार मनाया जाता है तथा इस दिन सभी लोग अपने घरों में लक्ष्मी माता की पूजा करते हैं और इसके साथ-साथ सोना चांदी इत्यादि भी खरीदते हैं तथा विभिन्न प्रकार के व्हीकल वगैरा भी लोगों के द्वारा खरीदे जाते हैं । इस साल 10 नवंबर 2023 को दोपहर 12 बजकर 35 मिनट से धनतेरस की शुरुआत होगी और 11 नवंबर 2023 को दोपहर 1 बजकर 57 मिनट पर इसका समापन होगा। इसलिए उदया तिथि के अनुसार, इस बार 10 नवंबर को ही धनतेरस मनाया जाएगा।

  • प्रातः 4.30 से 6.00 बजे तक (ब्रह्म मुहूर्त)
  • प्रातः 6.30 से 8.00 बजे तक चंचल वेला
  • प्रातः 8.00 से 9.00 बजे तक लाभ वेला
  • प्रातः 9.30 से 11.00 बजे तक अमृत वेला
  • प्रातः 11.45 से 1.30 बजे तक मकर लग्न
  • मध्यान्ह 12.00 से 2.00 बजे तक शुभ वेला
  • मध्यान्ह 12.30 से 1.00 बजे तक विजय, अभिजीत मुहूर्त
  • मध्यान्ह 1.32 से 3.02 बजे तक कुम्भ लग्न
  • मध्यान्ह 3.02 से 4.30 बजे तक मीन लग्न
  • मध्यान्ह 4.30 से 6.00 बजे तक मेष लग्न
  • मध्यान्ह 6.08 से 8.08 तक वृषभ लग्न
  • रात्रि 8.08 से 10.26 बजे तक मिथुन लग्न
  • रात्रि 9.30 से 11.00 बजे तक लाभ वेला
  • रात्रि 10.28 से 12.00 बजे तक कर्क लग्न

छोटी दिवाली

दीपावली महापर्व की शुरुआत धनतेरस से होती है और इसका अगला दिन रुप चौदस (छोटी दिवाली) का होता है । कार्तिक मास के कृष्णपक्ष की चतुर्दशी तिथि को छोटी दिवाली के रूप में मनाया जाता है । यूं तो हिन्दू धर्म में कोई भी त्यौहार उदया तिथि के अनुसार मनाया जाता है। मगर दिवाली की पूजा रात में होती है। ऐसे में छोटी दिवाली 11 नवंबर की पड़ेगी।

श्री महालक्ष्मी पूजन मुहूर्त एवं गादी स्थापना / दीपोत्सव चौपड़ा पूजा

(विक्रम संवत् 2080 कार्तिक वदी 14 पर्यन्त अमावस्या , दिनांक 12-11-2023 रविवार )

हिंदू धर्म में दिवाली सबसे बड़ा त्योहार होता है। हिंदू पंचांग के अनुसार दीपावली प्रत्येक वर्ष कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि पर मनाई जाती है। दिवाली रोशनी का पर्व है। दिवाली पर मां लक्ष्मी का विशेष पूजा करने का विधान होता है। दिवाली में मां लक्ष्मी के साथ भगवान गणेश, भगवान कुबेर और माता सरस्वती की पूजा की जाती है। नीचे दीपावली पूजा करने हेतु चौघड़िया मुहूर्त की जानकारी दी जा रही है ।

  • प्रात: 4.00 से 6.30 बजे तक बह्म मुहूर्त
  • प्रातः 6.40 से 8.52 बजे तक वृश्चिक लग्न प्रातः 8.00 से 9.30 बजे तक चंचल वेला
  • प्रातः 9.30 से 11.00 बजे तक लाभ वेला प्रातः 11.00 से 12.30 बजे तक अमृत वेला
  • प्रातः 11.41 से 12.27 बजे तक अभिजीत मुहूर्त
  • प्रातः 12.53 से 2.35 बजे तक कुम्भ लग्न
  • मध्यान्ह 1.00 से 2.56 बजे तक शुभ वेला
  • मध्यान्ह 2.35 से 4.15 बजे तक मीन लग्न
  • मध्यान्ह 4.22 से 6.00 बजे तक मेष लग्न
  • मध्यान्ह 6.08 से 8.05 बजे तक वृषभ लग्न, गोधुलि बेला
  • रात्रि 8.00 से 9.30 बजे तक अमृत वेला
  • रात्रि 8.06 से 10.18 बजे तक मिथुन लग्न
  • रात्रि 8.57 से 10.30 बजे तक चंचल बेला
  • रात्रि 10.10 से 12.28 बजे तक कर्क लग्न
  • रात्रि 12.28 से 2.31 बजे तक सिंह लग्न
  • रात्रि 1.37 से 3.11 बजे तक लाभ + अमृत वेला

गोवर्धन पूजा 2023 – Govardhan Puja 2023

इस बार गोवर्धन पूजा 13 नवंबर को है। गोवर्धन पूजा का शुभ मुहूर्त प्रातः काल 06 बजकर 14 मिनट से 8 बजकर 35 मिनट तक रहेगा।

भाई दूज 2023 – Bhai Dooj 2023

कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को ये पर्व मनाया जाता है । यह 14 नवंबर को है । भाई दूज मनाने का शुभ मुहूर्त दोपहर 1 बजकर 10 मिनट से 3 बजकर 22 मिनट तक रहेगा।

नूतन वर्षारम्भ एवं चौपड़ा उत्थान

विक्रम संवत् 2080 कार्तिक सुदी 1 मंगलवार दि. 14 नवंबर 2023 , प्रात: 4.30 से 6.30 बजे ब्रह्म मुहूर्त, 9.30 से 11.00 बजे चंचल वेला प्रातः 11.00 से 2.00 बजे लाभ + अमृत वेला, 3.30 से 5.00 बजे शुभ श्रेष्ठ।

विदर (बिछुड़ो)

विक्रम संवत् 2080 कार्तिक वदी अमावस्या सोमवार दि. 13-11-2023 को रात्रि 9.18 पर विधर लगेगा व कार्तिक सुदी 2 दि. 15-11-2023 बुधवार को रात्रि 3.01 पर उतरेगा ।

लाभ पंचमी, ज्ञान पंचमी एवं सौभाग्य पंचमी

लाभ पंचमी को सौभाग्य लाभ पंचम भी कहते है, ये दीवाली त्यौहार का आखिरी दिन होता है, जो पंचमी के दिन मनाते है । सौभाग्य का मतलब होता है अच्छा भाग्य और लाभ का मतलब अच्छा फायदा । इसलिए इस दिन को भाग्य और अच्छा लाभ का दिन माना जाता है । इस बार लाभ पंचमी, ज्ञान पंचमी एवं सौभाग्य पंचमी शुभ संवत् श्री शुभ संवत् 2080 कार्तिक सुदी 5 शनिवार दिनांक 18 नवंबर 2023 को है । नीचे लाभ पंचमी चौघड़िया मुहूर्त की जानकारी दी जा रही है ।

  • प्रात: 4.00 से 6.30 बजे तक ब्रह्म मुहूर्त
  • प्रातः 7.47 से 9.13 बजे तक शुभ
  • प्रातः 11.42 से 12.28 बजे तक अभिजीत मुहूर्त

Diwali 5 Day Celebration

Date (तारीख)
Day (दिन)
Event (प्रसंग)
10 नवंबर, 2023 शुक्रवार धनतेरस
11 नवंबर, 2023 शनिवार छोटी दिवाली
12 नवंबर, 2023 रविवार दिवाली, लक्ष्मी पूजा
13 नवंबर, 2023 सोमवार गोवर्धन पूजा
14 नवंबर, 2023 मंगलवार भैया दूज

धनतेरस से लेकर लाभ पंचमी तक सभी त्यौहारों की सही डेट और चौघड़ियों के साथ शुभ समय – Download Now

सारांश

दीपावली के इस त्यौहार को लेकर यदि आपके मन में भी डेट को लेकर कोई भी संसय रहा होगा तो वह आज की इस पोस्ट के अंदर क्लियर हो चुका होगा और यदि आप इस त्योहार से रिलेटेड कोई भी मुहूर्त वगैरा की जानकारी लेना चाहते हैं तो वह भी आज की इस पोस्ट के अंदर हमने विस्तृत रूप से उपलब्ध करवा दी है ।हमारे द्वारा दी की जानकारी विशेषज्ञों के द्वारा दी गई है लेकिन यदि कोई भी पोस्ट में गलती होती है तो इसकी जिम्मेदारी हमारी नहीं होगी आप कैलेंडर से मिलान कर लें ।

Back to top button